जनसुनवाई पोर्टल से शिकायत कैसे दर्ज करें jansunwai portal Se Shikayat kaise darj kare.jansunwai.up.nic.in

उत्तर प्रदेश मुख्यमंत्री जनसुनवाई पोर्टल के द्वारा आप अपनी शिकायत को घर बैठे दर्ज करवा सकते हैं यह एक ऑनलाइन शिकायत निस्तारण प्रक्रिया है जिसके माध्यम से आपकी शिकायत का यथाशीघ्र निस्तारण किया जाता है इस प्रक्रिया में आप अपनी शिकायत की स्थिति को भी देख सकते हैं | जनसुनवाई संदर्भ संख्या के द्वारा आप अपनी शिकायत की आख्या रिपोर्ट बाकी गई कार्रवाई की स्थिति को जान सकते हैं |

जनसुनवाई पोर्टल शिकायत की स्थिति को देखने के लिए संदर्भ संख्या व मोबाइल नंबर होना आवश्यक है जैसे कि आप पोर्टल पर कोई शिकायत दर्ज करते हैं तो आपको अपना मोबाइल नंबर डालना होता है और शिकायत दर्ज होने के बाद आपको मैसेज के माध्यम से संदर्भ संख्या प्राप्त होती है इस संदर्भ संख्या से ही आप अपनी शिकायत की स्थिति व आख्या को देख सकते हैं

जनसुनवाई का निस्तारण को देखने के लिए आपको गूगल प्ले स्टोर से जनसुनवाई ऐप को डाउनलोड करना होगा और साथ में मोबाइल नंबर से रजिस्टर्ड करने के बाद आप अपनी शिकायत की रिपोर्ट के देख सकते हैं

UP Jansunwai official Website- jansunwai.up.nic.in है

आज हम इस आर्टिकल में यह जानेंगे कि जनसुनवाई पोर्टल पर आप अपनी शिकायत को कैसे ऑनलाइन दर्ज करवा सकते हैं

यूपी में मुख्यमंत्री पोर्टल पर शिकायत कैसे करें?

सबसे पहले आपको गूगल क्रोम या कोई अन्य ब्राउज़र खोलना होगा अपने मोबाइल या लैपटॉप या डेस्कटॉप या टैबलेट में कोई एक ब्राउज़र को खोलना होगा वैसे तो बेहतर गूगल क्रोम या क्रोम ब्राउज़र है

गूगल सर्च बॉक्स में जनसुनवाई jansunwai लिखना है इसके बाद जो वेबसाइट सबसे ऊपर आएगा https://jansunwai.up.nic.in/ उसे वेबसाइट पर क्लिक करना है

जनसुनवाई क्लिक करने के बाद कुछ इस प्रकार का वेबसाइट खुलकर आएगा

इस वेबसाइट पर जहां पर लिखा होगा शिकायत पंजीकरण या शिकायत ऑनलाइन दर्ज करें वहां पर क्लिक करना होगा

क्लिक करने के बाद कुछ आपको इस प्रकार का दिखाई देगा

ऑनलाइन आवेदकों के लिए वेबसाइट नीतिया

ऐसे विषय/बिंदुओं की सूची जिनको जनशिकायत नहीं माना जाएगा

  1. सूचना के अधिकार से सम्बंधित मामले
  2. मा० न्यायालय में विचाराधीन प्रकरण
  3. सुझाव
  4. आर्थिक सहायता या नौकरी दिए जाने की मांग
  5. सरकारी सेवकों के सेवा सम्बन्धी प्रकरण (स्थानांतरण सहित) जब तक कि उन्होंने विभाग में उपलब्ध विकल्पों का उपयोग न कर लिया हो

 मैं सहमत हूँ कि मेरी जनशिकायत उपरोक्त वर्णित श्रेणियों में नहीं आती है|

 मैं सहमत हूँ कि मेरी जनशिकायत उपरोक्त वर्णित श्रेणियों में नहीं आती है| यहां पर आपको क्लिक करने के बाद सम्मीट बटन पर क्लिक करें

यहां पर आप अपना मोबाइल नंबर अंकित करें और कैप्चर कोड को भारे फिर इसके बाद ओटीपी भेजें पर क्लिक करें

ओटीपी कुछ इस प्रकार से आएगा आपके मोबाइल मैसेज बॉक्स में या SMS के माध्यम से

जहां पर लिखा होगा ओटीपी भरे हैं वहां पर आप अपने मोबाइल पर आए हुए मैसेज की बॉक्स में ओटीपी पांच अंको का भार करके सबमिट बटन पर क्लिक करेंगे इसके बाद कुछ इस प्रकार से पोर्टल खुलकर आएगा आपके सामने जहां पर आप अपना पूरा नाम अपने पिता या पति का नाम अपना आवासीय पता वह अपनी शिकायत व शिकायत का विभाग को चयन करेंगे

आप अपनी शिकायत दर्ज करने के बाद संदर्भ सुरक्षित करें पर क्लिक करके आप अपनी शिकायत को दर्ज कर पाएंगे

संदर्भ सुरक्षित पर क्लिक करने के बाद आपकी शिकायत संबंधित विभाग में पहुंच जाएगा और 15 दिनों के अंदर आपकी शिकायत का निस्तारण किया जाए गा कोई आवश्यक नहीं 15 दिन से अधिक भी लगा सकते हैं कभी-कभी तो एक माह तक शिकायत का भी निस्तारण नहीं हो पता है लेकिन यह आवश्यक है कि 15 दिन के अंदर में आकर शिकायत का निस्तार हो सकता है

Leave a Comment